हिमालय में हिमांकमंडल अध्‍ययन

Print

क्रायोस्फियर महासागर के बाद जलवायु प्रणाली का दूसरा सबसे बड़ा घटक है, जिसमें दुनिया के मीठे पानी का लगभग 75 प्रतिशत भंडारित होता है। बर्फ के द्रव्‍यमान के संदर्भ में और इसकी ताप दक्षता को देखते हुए यह वैश्विक जलवायु में एक उल्‍लेखनीय भूमिका निभाता है। हिमालय ध्रुवीय क्षेत्र के बाहर बर्फ से ढके हुए क्षेत्र में सबसे महत्‍वपूर्ण घनापन बनाता है। हिमालय के हिमनद जारी तापन के प्रति अत्‍यंत संवेदनशील हैं। भारतीय हिमालय (जीएसआई, एसएसी) की विस्‍तृत हिमनद सूची में हिमालय में 9579 हिमनदों की उपस्थिति का संकेत मिलता है, जिनमें से कुछ प्रमुख नदियों के बहुवार्षिक स्रोत हैं। हिमनदों में होने वाले बदलाव क्षेत्रीय जलवायु के परिवर्तनों के सबसे स्‍पष्‍ट संकेतों में से एक हैं, चूंकि ये जमाव (बर्फबारी से) और पृथक्‍करण (बर्फ पिघलने से) नियंत्रित होते हैं। इनके जमाव या पृथक्‍करण या द्रव्‍यमान संतुलन हिमनद के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए महत्‍वपूर्ण हैं।

क) उद्देश्‍य

  1. जल विज्ञान, पारिस्थितिकी और जलवायु पर इसके प्रभाव को समझने के लिए गतिकी और हिमनदों में बदलाव की दर का अध्‍ययन करना,
  2. पिछली जलवायु की पुरानी सूचना के रूप में बर्फ का उपयोग करते हुए मौसम बदलाव का आकलन, और इसके भावी निहितार्थ
  3. हिमालय की बर्फ के जैव भू रसायन पक्षों का अध्‍ययन करना तथा ध्रुवीय पर्यावरण से इसकी तुलना करना।

ख) प्रतिभागी संस्‍थाएं

  1. राष्‍ट्रीय अंटार्कटिक एवं महासागर अनुसंधान केंद्र, गोवा
  2. भारत मौसम विज्ञान विभाग, दिल्‍ली

ग) कार्यान्‍वयन योजना

  1. विस्‍तृत हिमनद आकलन और द्रव्‍यमान संतुलन अध्‍ययन हेतु कुछ प्रकार के हिमनदों की पहचान जैसे छोटा सिगरी, हमता और अन्‍य जिनके कुछ पिछले हिमनद विज्ञान आंकड़े उपलब्‍ध हैं।
  2. एडब्‍ल्‍यूएस और वेधशाला केन्‍द्रों की स्‍थापना (आईएमडी के साथ) उन क्षेत्रों में करना जो हिमनदों के मुहाने के पास हैं ताकि हिमनद भूमि रूपों की निगरानी, भूअकारिकी मानचित्रण किए जा सकें।
  3. ईएलए से अधिक और कम वायुजनित और भूमि जीपीआर सर्वेक्षण करना तथा चुने गए स्‍थलों पर बर्फ के केन्‍द्रों की प्राप्ति, टीएल / ओएसएल के लिए नमूने लेने, हिमनदों की वापसी के कालक्रमानुसार एएमएस डेटिंग हेतु अभ्‍यास आयोजित करना।
  4. सेटेलाइट रिमोट सेंसिंग डेटा की मदद से बर्फ के मौसमी आवरण की निगरानी करना, बर्फ की सतह पर एरोसॉल के पैटर्न, साइज और रसायन तथा कण पदार्थ में भिन्‍नता के अध्‍ययन के लिए ठण्‍ड और गर्मी के मौसम में बर्फ के नमूने जमा करना।

घ) वितरण योग्‍य

हिमनद अध्‍ययनों में द्रव्‍यमान संतुलन, जीपीआर रूपरेखा, बर्फ आवरण आकलन शामिल हैं जिसे समय की पर्याप्‍त अवधि में करने से हिमनदों के स्‍वास्‍थ्‍य को प्रकट किया जाएगा। हिमनद पिघलने से बनने वाली नदियां और उनके बहाव जल विज्ञान प्रणाली को महत्‍वपूर्ण फीडबैक देंगे।

ड) बजट आवश्‍यकता : 70 करोड़ रु.

(करोड़ रु. में)

बजट आवश्‍यकता :
योजना का नाम 2012-13 2013-14 2014-15 2015-16 2016-17 कुल
हिमालय में क्रायोस्‍फियर अध्‍ययन 20.00 15.00 15.00 10.00 10.00 70.00

 

Last Updated On 02/17/2015 - 13:08
Back to Top