पृथ्वी विज्ञान और प्रौद्योगिकी सेल (ईएसटीसी) | Ministry of Earth Sciences

पृथ्वी विज्ञान और प्रौद्योगिकी सेल (ईएसटीसी)

Print

योजना अवधि के दौरान, महासागर और वायुमंडलीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी प्रकोष्ठ (ओएएसटीसी) निम्नलिखित उद्देश्यों के साथ विशिष्ट क्षेत्रों में कार्य करते रहेंगे। इसके बाद, ओएएसटीसी को पृथ्वी विज्ञान और प्रौद्योगिकी प्रकोष्‍ठों (ईएसटीसी) के रूप में जाना जाएगा।

  1. परिघटना और पृथ्वी प्रणालियों के प्रक्रियाओं के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए समाज के लाभ हेतु महासागर और वायुमंडलीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी के विभिन्न विषयों में पर्याप्त विशेषज्ञता बनाना।
  2. विज्ञान के क्षेत्र में फ्रंट रैंकिंग अनुसंधान करने के लिए विश्वविद्यालयों, कॉलेजों और संस्थानों को प्रोत्साहित करना।
  3. शैक्षिक गतिविधियों और उद्योग की वर्तमान तथा भविष्य की जरूरतों को पूरा करने के लिए संसाधनों के दोहन के लिए ऊर्जा और क्षमता निर्माण सहित प्रौद्योगिकी विकसित करना।
  4. लाभ को अधिकतम करना जो कि हमारा देश अपने विशाल सागर क्षेत्र से प्राप्‍त कर सके।
  5. जनता और स्कूल के बच्चों के बीच सागर और उसके संसाधनों, उपयोगिता, प्रबंधन और विकास के बारे में जागरूकता और वैज्ञानिक सोच को बढ़ावा देना।
  6. जलीय कृषि, समुद्री शैवाल, मछली पकड़ने के गियर में सुधार आदि क्षेत्रों में स्थानीय समुदायों के लाभ के लिए संसाधनों का दोहन करने के लिए सिद्ध / व्यवहार्य प्रौद्योगिकियों को बढ़ावा देना।

क) उद्देश्‍य :

  1. पृथ्वी प्रणाली विज्ञान में जनशक्ति विकास और क्षमता निर्माण की दिशा में ईएसटीसी / सीओई के कार्यकलाप जारी रखना।
  2. पृथ्वी प्रणाली विज्ञान पर अनुसंधान परियोजनाओं को वित्त पोषण।
  3. नए ईएसटीएस खोलना और मौजूदा ईएसटीसी को एमओईएस उत्‍कृष्‍टता केंद्रों (सीओई) में अपग्रेड करना ।
  4. वैज्ञानिकों की अंतरराष्ट्रीय यात्रा की सहायता के लिए अनुदान।
  5. मंत्रालय में कार्यक्रम प्रबंधन प्रकोष्‍ठ की स्थापना।

ख)प्रतिभागी संस्‍थाएं:

पृथ्वी प्रणाली विज्ञान संगठन, दिल्ली

ग) कार्यन्‍वयन योजना :

प्रत्येक ई एस टी सी प्रबंधन बोर्ड (एमबी) के समग्र मार्गदर्शन और निगरानी के तहत कार्य करता है। एमबीएस की अध्यक्षता विश्वविद्यालय के कुलपति करते हैं या संस्थान के निदेशक करते है, जहां ईएसटीसी स्थित है; अनुसंधान समन्वयक एमबी का सदस्य सचिव हैं। सचिव एमओईएस की अध्‍यक्षता वाली संचालन समिति कार्यक्रम के लिए सर्वोच्च नीति निर्माण निकाय है।

वितरण योग्‍य :

  1. वैज्ञानिक प्रासंगिकता वाले राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर ध्‍यान देना और उनके समाधान खोजना।
    • पीयर समीक्षा वाली राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पत्रिकाओं में शोध पत्रों का प्रकाशन।
    • राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पेटेंट कार्यालयों में पेटेंट की फाइलिंग
    • राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय सहयोगी परियोजनाओं पर कार्य करना। प्रासंगिक वैज्ञानिक मुद्दों का समाधान करने के लिए राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों के साथ बेहतर बातचीत।
  2. जनशक्ति विकास और क्षमता निर्माण
    • डिग्री प्रदान करना (पीएचडी/एम फिल/एम एस आदि)
    • विजिटिंग प्रोफेसरशिप प्रदान करना (राष्ट्रीय/अंतरराष्ट्रीय)
    • राष्ट्रीय महत्व की कार्यशाला/संगोष्ठी/गोष्ठी का आयोजन
  3. नए ईएसटीसी की स्थापना और मौजूदा केंद्रों का उत्कृष्टता केंद्रों (सीओई) में उन्नयन।
    • ईएसटीसी का कार्यकरण बेहतर बनाना

ङ) बजट की आवश्‍यकता : 75 करोड़

(करोड़ रु)

बजट आवश्‍यकता
योजना का नाम 2012-13 2013-14 2014-15 2015-16 2016-17 कुल
उत्कृष्टता केंद्र 15.00 15.00 15.00 15.00 15.00 75.00

 

Last Updated On 06/08/2015 - 10:09
Back to Top