समुद्री जैव-प्रौद्योगिकी

Print

11 वीं पंचवर्षीय अवधि के दौरान यह समूह 350 बार दबाव मूल्यांकन उच्च दबाव धारण करने योग्‍य पानी के सैम्‍पलर, उच्च दबाव कम तापमान क्रमिक रूप से विलयन और किण्वक प्रणालियों को विकसित करने की प्रक्रिया में है। इस अनुभव का उपयोग गहरे समुद्र में रोगाणुओं का पता लगाने के लिए 600 बार दबाव मूल्यांकन उपकरणों का डिजाइन बनाने हेतु करने का प्रस्‍ताव है।

मेटाजीनोमिकी प्रौद्योगिकी में विकास और संवर्धन स्वतंत्र दृष्टिकोण के उपयोग द्वारा इस रुकावट को दूर करने का प्रयास किया जाता है। मेटाजिनोमिक्‍स में जीनोमिक विश्लेषण (एक जीव में पूरे डीएनए) की शक्ति को रोगाणुओं के पूरे समुदाय के लिए लागू किया जाता है जो पृथक और संवर्धन व्‍यक्तिगत माइक्रोबियल प्रजातियों की आवश्‍यकता को बाइपास करता है और इस प्रकार एक विशाल अप्रयुक्त आनुवंशिक विविधता का एक अपेक्षाकृत निष्पक्ष नमूना प्रदान करता है जो कि विभिन्न सूक्ष्म वातावरण में मौजूद हैं। इसका एक अतिरिक्त लाभ यह है कि जीन जो रुचि के उत्पाद के जैवसंश्लेषण को इनकोड करते है उसे जैव सूचना विज्ञान उपकरण के उपयोग से अलग किया जा सकता है और विश्लेषण किया जा सकता है।

प्रस्तावित अनुसंधान विभिन्न  नई और उपयोगी उत्‍पादों की खोज के लिए असंवर्धित रोगाणुओं का उपयोग करने के माध्‍यम से चरम पर्यावरणीय स्‍थिति (गहरा समुद्र) में जीवों की विविधता के बारे में वर्णनात्‍मक जानकारी प्रदान करेगा। गहरा समुद्री नमूनों से बैरोटोलेरेट जीन का पृथककरण विशेष पर्यावरण स्‍थानों में ऐसे रोगाणुओं की उपस्‍थिति के बारे में एक पृष्‍ठभूमि सुझाव देगा और उसका उपयोग उसी पर्यावरणीय स्‍थानों से रोगाणुओं (संवर्धित, अगर कोई) को पृथक करने के लिए सहयोगी जानकारी के रूप में किया जाएगा।

शैवाल न्यूट्रास्‍युटिकल उद्योग के सामने कुछ प्रमुख चुनौतियां हैं, जो हैं, एक आदर्श सूक्ष्म शैवाल प्रजातियों के लिए खोज सहित समुद्री सूक्ष्म शैवाल का बड़े पैमाने पर उत्पादन, सूक्ष्म शैवाल से उत्पादों के निकासी के लिए कम ऊर्जा गहन तरीकों का निर्धारण करना और सूक्ष्म शैवाल से बायोमास उत्पादन की उच्च इकाई लागत कम करना। इसलिए इस परियोजना का लक्ष्य ओमेगा तीन फैटी एसिड के उत्पादन के लिए इन समस्याओं को दूर करना और समुद्री शैवाल से एस्‍टा जैंथिन प्राप्‍त करना होगा । उसी प्रकार, समुद्री वातावरण में विशेष रूप से मैक्रो शैवाल से जैव कच्चे तेल और जैव प्लास्टिक के लिए संसाधनों की उपलब्धता को पूरी तरह से खोजा नहीं गया है।

आईएमओ मानकों के अनुरूप ब्‍लॉस्‍ट जल निष्‍पादन प्राप्‍त करने के लिए आईएमओ द्वारा निर्धारित मापदंड के अनुसार मूल्यांकन करने के लिए उपयुक्त प्रौद्योगिकियों के विकास की आवश्यकता होगी। भारत में इस तरह के सत्यापन की सुविधा की मांग बहुत अधिक हैं।

क) उद्देश्‍य

  1. गहरे समुद्र में बैरोटोलेरेंट और बारोफिलिक जीवाणु और उनके बड़े पैमाने पर संवर्धन के संग्रह, पृथक और लक्षणीकरण के लिए प्रौद्योगिकी का विकास।
  2. मेटाजीनोमिक्‍स दृष्टिकोण के माध्यम से नए जैव आणुओं और जीनों की पहचान।
  3. समुद्री पर्यावरण से सूक्ष्म शैवाल उपभेदों ल्‍यूटेइन का संग्रह और पृथककरण
  4. ल्‍यूटेइन के उत्‍पादन के लिए संभावित प्रत्‍याशी प्रजातियों का बड़े पैमाने पर संवर्धन
  5. दुर्गंधरोधी गुण के साथ नई सामग्री और नैनो कणों का विकास
  6. ब्‍लास्‍ट जल का परीक्षण, सत्‍यापन और ब्‍लास्‍ट जल शोधन प्रणालियों का प्रमाणीकरण
  7. जैव फिल्म बनाने वाले जीवाणुओं की निष्क्रियता के लिए प्लाज्मा पल्‍स फील्‍ड सृजन के माध्यम से दुर्गंधरोधी जैव अवरोध का उपाय।
  8. खुले समुद्र पिंजरों में प्रजनन, लार्वा पालन, बीज उत्पादन और फिन मछली संवर्धन के प्रदर्शन के एक पूरे पैकेज का विकास
  9. बैरोटोलेरेंट और बारोफिलिक जीवाणु के संग्रह, पृथककरण और लाक्षणीकरण का विकास और उनके बड़े पैमाने पर संवर्धन के लिए प्रौद्योगिकी। मेटा जीनोमिक्स दृष्टिकोण के माध्यम से नए जैव अणुओं और जीन की पहचान
  10. समुद्री सूक्ष्म शैवाल, मैक्रो शैवाल और नीले, हरे शैवाल से जैव प्लास्टिक और न्यूट्रास्यूटिकल्स पीएई)  , डीएचए, आदि) पृथककरण, शोधन और लक्षणीकरण।
  11. ब्‍लास्‍ट जल प्रबंधन प्रणालियों के लिए एक भूमि आधारित परीक्षण की सुविधा की स्थापना।
  12. जैविक और इंजीनियरिंग अनुप्रयोगों के लिए विभिन्न स्तरों पर बुनियादी स्कूबा डाइविंग कौशल में जनशक्ति का प्रशिक्षण

ख) प्रतिभागी संस्‍थाएं

राष्ट्रीय समुद्र प्रौद्योगिकी संस्थान, चेन्नै।

ग) कार्यान्‍वयन योजनाएं

यद्यपि 11वीं योजना के उद्देश्यों को पूरा करने में उल्लेखनीय प्रगति प्राप्त की गई है, कुछ उद्देश्यों को अभी भी प्राप्त किया जाना है। इन निम्नलिखित कार्यों को पूरा करने के लिए 12 वीं योजना में इस परियोजना को जारी रखने का प्रस्ताव है।

  1. बेरोटोलरेंट और बेरोफिलिक  बैक्टीरिया का पृथककरण तथा पहचान और उनका बड़े पैमाने पर संवर्धन।
  2. नए जैव अणुओं और मेटा जीनोमिक्स दृष्टिकोण के माध्यम से उनके जीन की पहचान।
  3. समुद्री सूक्ष्म शैवाल से ल्‍यूटाइन के उत्पादन।
  4. समुद्री वातावरण में जैव अवरोध से निपटने के लिए आसंजक प्रोटीन के साथ सहभागिता।
  5. भारतीय तटीय जलों के अनुरूप विभिन्न आकार और प्रकारों के समुद्र पिंजरों का विकास।
  6. अपतटीय सागरीय कृषि में पारंपरिक मछुआरों को हैड ऑन प्रशिक्षण का प्रावधान
  7. कई वातावरण में उपस्‍थित रोगाणुओं के गैर संवर्धन क्षमता के परिणाम के लिए मेटा जीनोमिक दृष्टिकोण
  8. आईएमओ द्वारा निर्धारित मापदंड के अनुसार बालास्‍ट पानी प्रदर्शन का मूल्यांकन करने के लिए उपयुक्त प्रौद्योगिकियों का विकास
  9. गोताखोरी विशेषज्ञता और बुनियादी ढांचे का विकास

यह कार्यक्रम सीएमएलआरई, एनसीएओआर, आईआईटी, आदि जैसे अन्य संस्थानों के साथ वैज्ञानिक और सहयोगी तकनीकी कर्मचारियों के माध्यम से एनआईओटी द्वारा कार्यान्वित किया जाएगा।

बुनियादी सुविधाएं / प्रयोगशाला आवश्यकताएं

इस समूह में निम्नलिखित सुविधाएं की आवश्यकता होती है :

  1. पंप हाउस सहित समुद्र जल की मात्रा और आपूर्ति प्रणाली
  2. हैचरी
  3. नर्सरी
  4. ताजे पानी की मात्रा और आपूर्ति प्रणाली
  5. मिट्टी के प्रायोगिक तालाब
  6. सूक्ष्म शैवाल के लिए रेसवे संवर्धन प्रणाली
  7. वेट प्रयोगशाला
  8. उपकरण प्रयोगशाला
  9. भंडारण सुविधा
  10. जेट्टी
  11. प्रशिक्षण सह प्रशासनिक सुविधाएं
  12. फीड प्लांट
  13. प्रशिक्षुओं और हैचरी श्रमिकों के लिए आवास
  14. वाणिज्यिक ग्रो-आउट तालाब
  15. परीक्षण के लिए समुद्री पानी का पूल

घ) वितरण योग्‍य:

  1. बेरोटोलरेंट और बेरोफिलिक बैक्टीरिया का पृथककरण और पहचान और उनका बड़े पैमाने पर संवर्धन।
  2. समुद्री सूक्ष्म शैवाल से ल्‍यूटाइन का उत्पादन।
  3. भूमि आधारित बालास्‍ट जल प्रबंधन सुविधा

ङ) बजट की आवश्‍यकता : 105 करोड़

(करोड़ रु. में)

बजट आवश्‍यकता
योजना का नाम 2012-13 2013-14 2014-15 2015-16 2016-17 कुल
समुद्री जैव प्रौद्योगिकी। 31 28 23 13 10 105

 

Last Updated On 06/18/2015 - 10:18
Back to Top