ताजा खबर

बहुधात्‍विक पिण्‍डिका कार्यक्रम(पीएनएम)

Print

बहुधात्विक पिण्डिका कार्यक्रम भारत के लिए आबंटित मध्य हिंद महासागर बेसिन (सीआईओबी) से पिण्डिका के संभावित अन्‍वेषण के लिए प्रौद्योगिकियों की खोज और विकास की ओर उन्मुख है। वर्तमान में, भारत के पास 75,000 वर्ग किलोमीटर का क्षेत्रफल है, जो इसके दक्षिणी सिरे से दूर 1,600 किमी में स्थित है। भारत शीर्ष 8 देशों / संविदाकारों में से एक है और जो बहुधात्विक पिण्डिका के अन्वेषण और उपयोग के लिए एक दीर्घ अवधि कार्यक्रम कार्यान्‍वित कर रहा हैं। बहुधात्विक पिण्डिका कार्यक्रम चार घटकों अर्थात् सर्वेक्षण और अन्वेषण, पर्यावरणीय प्रभाव मूल्यांकन (ईआईए) अध्ययन, प्रौद्योगिकी विकास (खनन) और प्रौद्योगिकी विकास (निष्‍कर्षण धातुकर्म) को मिलाकर बना है।

सर्वेक्षण और अन्वेषण:

क) उद्देश्‍य

  1. धारित क्षेत्र में सबसे संभावित क्षेत्र की पहचान करना जो मध्‍य हिंद बेसिन में पिण्डिकाओं के लिए प्रथम पीढ़ी के खनन स्‍थल का केंद्र बनेगा।
  2. प्रथम पीढ़ी खनन स्‍थल में आदर्श ब्लॉकों का चयन करना और प्रयोगिक खनन के लिए पूर्व संकेतक और आवश्यक डेटा प्रदान करने के लिए उच्चतम संभव विभेदन पर विस्तृत अवलोकन करना।
  3. धारित क्षेत्र में मौजूदा डेटा के साथ ग्रेड और बहुतायत डेटा को एकीकृत करना और जहां तक ग्रेड और बहुतायत का संबंध है, सबसे अच्छे ब्लॉकों की अंतिम वस्‍तुस्‍थिति सृजित करना।
  4. धारित क्षेत्र में पिण्डिका का व्यापक संसाधन मूल्यांकन।

ख) प्रतिभागी संस्‍थाएं :

  1. राष्ट्रीय अंटार्कटिक एंव समुद्री अनुसंधान केन्द्र, गोवा
  2. राष्ट्रीय समुद्र विज्ञान संस्थान, गोवा

ग) कार्यान्‍वयन योजना:

  1. समोच्च नक्शे का सृजन, ढलान कोण का नक्शा, खनन स्‍थल-एम-3 (42 ब्लाक) का 3-डी मानचित्र और मौजूदा आंकड़ों से उच्च विभेदन अध्ययनों के लिए आदर्श ब्लॉकों का चयन करना।
  2. सब-बॉटम भेदन का उपयोग करते हुए पूर्व चयनित ब्लॉकों की आरओवी जांच, सूक्ष्म स्थलाकृति आदि के लिए एक बीम और बहु बीम मानचित्रण।
  3. आरओवी से डेटा प्रोसेसिंग

घ) वितरण योग्‍य :

कार्यक्रम से अपेक्षित डिलिवरेबल्स में बहु धातु खनिज अन्वेषण के लिए प्रासंगिकता संबंधी विस्तृत स्‍थल विशेष विषयगत नक्शे और इस क्षेत्र के लिए एक व्यापक भूवैज्ञानिक डेटाबेस शामिल होंगे।

जीआईएस का उपयोग करते हुए अन्‍वेषण क्षेत्र की सूक्ष्‍म स्‍थालाकृतिक रूपरेखाओं और संबंधित विश्‍लेषणों का सीमांकन करने के लिए उच्‍च विभेदन मानचित्र (3-डी और 2-डी) तैयार करना।

सीआईओबी नॉड्यूल युक्त क्षेत्र (प्रथम पीढ़ी खनन स्‍थल) में संभावित सीमाउंट जलतापीय निक्षेपों की समझ और आकलन।

ङ) बजट की आवश्‍यकता : 75 करोड़ रुपए

(करोड़ रु)

बजट आवश्‍यकता
योजना का नाम 2012-13 2013-14 2014-15 2015-16 2016-17 कुल
सर्वेक्षण और अन्वेषण 15.00 15.00 15.00 15.00 15.00 75.00

 

Last Updated On 06/19/2015 - 10:25
Back to Top