ताजा खबर

सीफ्रंट सुविधा

Print

सीफ्रंट सुविधा को प्रोटोटाइप प्रणालियों के विकास संबंधी कार्यकलपों को करने, समुद्र में स्वदेशी रूप से विकसित समुद्री प्रणालियों के परीक्षण और अंशांकन करने के लिए स्‍थापित किया गया है। वर्तमान परिसर पल्‍लीकरणै में 1998 से चरणों में स्थापित किया गया था। यहां  अतिरिक्त सुविधा की जरूरत है, क्‍योंकि गतिविधियों में विस्तार किया गया है।

क) उद्देश्‍य :

परीक्षण, अंशांकन, तट पर प्रयोगशाला की सुविधा सहित समुद्र में समुद्र तकनीकी गतिविधियों के परीक्षण और प्रदर्शन के लिए अत्याधुनिक सीफ्रंट सुविधा स्थापित करना।

ख) प्रतिभागी संस्‍थाएं

राष्ट्रीय समुद्र प्रौद्योगिकी संस्थान, चेन्नै।

ग) कार्यान्‍वयन योजनाएं

इसमें समुद्र तट के साथ-साथ भूमि अधिग्रहण को पूरा करने और आम सुविधाओं जैसे कि संपत्ति, गेस्ट हाउस, सड़कों आदि की स्थापना करने का प्रस्ताव है। किसी भी क्षेत्रीय परीक्षण के लिए न्यूनतम आवश्यक उपकरण रखे जाएंगे और सुविधा का परिचालन रखरखाव किया जाएगा।

इस सीफ्रंट सुविधा की स्‍थापना तीन चरणों में की जाएंगी अर्थात् भारत सरकार से भूमि अधिग्रहण, परीक्षण प्रयोगशालाओं का निर्माण और परिसर और पूरी तरह से सुसज्जित प्रयोगशालाओं की स्थापना के साथ सीफ्रंट सुविधा।

घ) वितरण योग्‍य:

  1. परीक्षण, अंशांकन, तट पर प्रयोगशाला की सुविधा सहित समुद्र में समुद्र तकनीकी गतिविधियों के परीक्षण और प्रदर्शन के लिए अत्याधुनिक सीफ्रंट सुविधा।

ङ) बजट की आवश्‍यकता : 175 करोड़ रुपए

(करोड़ रुपए में)

बजट आवश्‍यकता
योजना का नाम 2012-13 2013-14 2014-15 2015-16 2016-17 कुल
सीफ्रंट सुविधा 57 44 31 24 19 175

 

Last Updated On 06/19/2015 - 11:36
Back to Top