दक्षिणी ध्रुव वैज्ञानिक अभियान

Print

पहली बार भारत ने 13 नवम्बर 2010 को मैत्री से दक्षिणी ध्रुव के लिए एक वैज्ञानिक अभियान का शुभारंभ किया। आठ सदस्यीय दल ने श्रीमार्चर ओएसिस से दक्षिणी ध्रुव तक के मार्ग में मूल्यवान वायुमंडलीय एयरोसोल डेटा और कई छोटे हिम क्रोड एकत्र किए। दल 22 नवंबर, 2010 को दक्षिणी ध्रुव पर पहुंचा और सभी वैज्ञानिक कार्यों के पूरा होने पर 1 दिसंबर, 2010 को 'मैत्री' लौट गया।

Last Updated On 11/16/2015 - 16:01
Back to Top